पुलिस व आबकारी विभाग की लापरवाही के चलते”बेखौफ” शराब माफिया”अवैध शराब से भरा ट्रक कहां गायब हुआ पता ही नहीं चला”

खबर समाचार दर्शन

सहारनपुर:-पुलिस प्रशासन नहीं ले रहा है सीख अभी हाल ही में ज़हरीली अवैध शराब पीने के चलते जनपद तथा उत्तराखंड में हो गई थी सैकड़ों लोगों की मौतें। इसके बावजूद भी जनपद में बड़े पैमाने पर अवैध शराब का धंधा बड़ा मुनाफा अर्जित करने वाले कहीं छिप कर तो कहीं खुल्लम खुल्ला कर रहे हैं। सूत्र बताते हैं लगातार हरियाणा से लाई जा रही है जनपद में अवैध शराब मोटे मुनाफे के चलते शराब माफियाओं के साथ ट्रांसपोर्टर्स भी इस गोरखधंधे में शामिल हैं। वहीं पुलिस और आपका री विभाग छोटे-मोटे मामलों को छोड़ कर बड़े मामलों से किनारा कशी किए हुए है।ऐसा ही एक मामला आज नगर के घंटाघर पर स्थित चौकी का प्रकाश में आया है जहां एक पत्रकार ने पूर्व में ही पुलिस के आला अधिकारियों को सूचना दी थी कि हरियाणा से एक ट्रक न० एचआर-58-ए 8559 में भारी मात्रा में अवैध हरियाणा मार्का शराब लाई जा रही है जिसके ऊपर कपड़ा तथा नीचे अवैध शराब की पेटियां दबी हैं।ट्रक को जब घंटा घर पर रोका गया तो पता चला यह ट्रक किसी राजेश भाटिया नामक ट्रांसपोर्टर का है।जहां नो एंट्री के चलते इस का चालान कर दिया गया।पुलिस कस्टडी में ट्रक के होने के बावजूद ट्रक का गायब होना चर्चा का विषय बना हुआ है। ट्रक कहां गायब हुआ किसी को पता नहीं चला पुलिस वाले अंजान बने हुए हैं।पत्रकार चौधरी इमरान अंसारी”ने बताया राजेश भाटिया के मुंशी के पुलिस और आबकारी विभाग के संरक्षण के चलते हौसले इतने बुलंद हैं कि वह दिन में नो एंट्री होते हुए भी हरियाणा से कपड़ा लाने की आड में शराब सप्लाई करने में लगा है।पत्रकार ने बताया कि उन्हें सूत्रों से गुप्त सूचना मिली थी कि ट्रांसपोर्टर राजेश भाटिया का मुंशी योगेश दुआ व उसका ड्राइवर मुस्तकीम गाड़ी नंबर एचआर 58-ए 8559 में कपड़ा भरकर ला रहा है और कपड़े के नीचे करीब 400 पेटी अवैध शराब भी भरी हुई है। सटीक सूचना के आधार पर पत्रकार द्वारा एसएसपी एवं सेल टैक्स विभाग को सूचना दे दी गई, करीब सुबह 11:30 बजे उक्त 6 टायरा ट्रक को शहर के बीचो-बीच घंटाघर पर पुलिस ने पकड़ लिया ट्रक का नो एंट्री में चालान काटकर घंटाघर चौकी इंचार्ज रामवीर सिंह अपनी सुपुर्दगी में लेलिया”इससे पहले की उच्च अधिकारियों द्वारा ट्रक के अंदर जांच की जाती ट्रक मौके से गायब था पत्रकार का आरोप है कि चौकी इंचार्ज ने शराब माफिया से मिली-भगत कर चालान की गई गाड़ी छोड़ दी”और ट्रांसपोर्ट उसे ले भागा। मौके पर गाड़ी ना मिलने पर सेल टैक्स विभाग के सचल दल ने ट्रक को काफी तलाश किया लेकिन ट्रक नहीं मिला इसके उपरांत सेल टैक्स सचल दल वापस लौट गया।पत्रकार इमरान ने आरोप लगाया कि मौके पर मौजूद पुलिस ने ऐसा करके सरकार को लाखों रुपयों के राजस्व की हानि पहुंचाने के साथ साथ अवैध शराब से भरे ट्रक को वहां से जाने दिया जो एक गंभीर मामला है। इमरान का आरोप है जब गाड़ी पकड़ी गई तो ट्रांसपोर्टर राजेश भाटिया व मुंशी योगेश दुआ ने उसके साथ अभद्रता गाली-गलौज की और कहा जा हमारी शिकायत कहीं भी कर दे कोई अधिकारी हमारा कुछ नहीं बिगाड़ सकता।

पत्रकार ने मदद के लिए एसएसपी से मिलने का प्रयास किया लेकिन मुलाकात नही हो पाई। एक पत्रकार के साथ की गई अभद्रता लोकतंत्र पर सीधा हमला है। राज्य सरकार समय-समय पर पत्रकारों की सुरक्षा और सम्मान के संबंध में आदेश देती है।हाल ही में आईजी कानून-व्यवस्था द्वारा भी पत्रकारों की सुरक्षा व सम्मान के लिए यूपी के वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों को आदेश दिया था लेकिन जमीनी स्तर पर उसका कोई भी अमल देखने को नहीं आता उल्टे प्रशासन की मदद करने वाले पत्रकारों को प्रशासन की उदासीनता के चलते अपमानित होना पड़ता है।पत्रकार इमरान अंसारी ने वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक से मिलकर उक्त मामले में संज्ञान लेने की शिकायत की है जहां कप्तान ने इसकी जांच करने के आदेश दिए हैं।

रिपोर्ट:एस,एम,वासिल/ साजिद एडवोकेट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *